Surya Namaskar Mantra – सूर्य नमस्कार मंत्र

सूर्य पृथ्वी पर जीवन का निर्वाह करता है। हमारे प्राचीन ऋषियों ने इसे स्वीकार किया और सूर्य की पूजा की। सूर्य नमस्कार गति में एक प्रशंसा है जो सूर्य को अर्पित की जाती है। इसमें बारह योग मुद्राएं या आसन शामिल हैं जो सूर्य के चक्रों को दर्शाते हैं जो लगभग सवा बारह वर्षों में चलते हैं। यदि आपका सिस्टम स्फूर्तिवान है, तो आपका चक्र सौर चक्र के अनुरूप होगा। सूर्य नमस्कार आपके भौतिक चक्र और सूर्य के बीच इस सामंजस्य को बनाने में मदद करता है।

सूर्य नमस्कार मंत्र नामक मंत्र सूर्य नमस्कार के साथ हो सकते हैं। ये मंत्र शरीर, श्वास और मन में सामंजस्य लाते हैं। जैसे-जैसे अभ्यास गहरा होता है, वैसे-वैसे लाभ भी होता है। जब ईमानदारी से कृतज्ञता के साथ जप किया जाता है, तो ये मंत्र अभ्यास को एक उन्नत आध्यात्मिक स्तर तक ले जा सकते हैं।

‘ओम भानवे नमः’ का अर्थ है ‘वह जो प्रकाश लाता है।’ जब आप इस मंत्र का पाठ करते हैं, तो हमें प्रकाश देने और पृथ्वी पर जीवन को संभव बनाने के लिए सूर्य के प्रति गहरी कृतज्ञता की भावना महसूस करें। ‘O सूर्याय नमः’ का अर्थ है ‘अंधेरे को दूर करने वाला।’ संक्षेप में इसका अर्थ है कि हम सूर्य की उपासना हमें प्रकाश देने के लिए करते हैं।

गुरुदेव श्री श्री रविशंकर बताते हैं, “जिस प्रकार परमाणु के केंद्र में प्रोटॉन और न्यूट्रॉन होते हैं और इलेक्ट्रॉन केवल परिधि होते हैं, वही हमारे जीवन के साथ होता है। हमारे अस्तित्व का केंद्र बिंदु आनंद, सकारात्मकता और आनंद है। लेकिन यह नकारात्मक आयनों के बादल से घिरा हुआ है। मंत्र (संस्कृत मंत्र) नकारात्मकता के इस बादल को दूर करते हैं। नामजप से वातावरण सकारात्मक स्पंदनों से भर जाता है और ऐसे स्थान पर ध्यान सहज और सहज हो जाता है।”

आइए हम सहजता से और कृतज्ञता के साथ मंत्रों का जाप करें और सूर्य नमस्कार (सूर्य नमस्कार) अभ्यास के चरणों में आगे बढ़ें।

Surya Namaskar Mantra

  1. ॐ मित्राय नमः – Om Mitraaya Namaha
  2. ॐ रवये नम: – Om Ravayre Namah
  3. ॐ सूर्याय नम: – Om Suryaya Namah
  4. ॐ भानवे नम: – Om Bhanave Namah
  5. ॐ खगाय नम: – Om Khagaya Namah
  6. ॐ पूष्णे नम: – Om Pushne Namah
  7. ॐ हिरण्यगर्भाय नम: – Om Hiranyagarbhaya Namah
  8. ॐ मरीचये नम: – Om Marichaye Namah
  9. ॐ आदित्याय नम: – Om Adityaya Namah
  10. ॐ सवित्रे नम: – Om Savitre Namah
  11. ॐ अर्काय नम: – Om Arkaya Namah
  12. ॐ भास्कराय नम: – Om Bhaskaraya Namah

Surya Namaskar mantras with asanas

1. प्रणामासन (Pranamasana) – The Prayer Pose

Yoga Asana:

प्रणामासन (Pranamasana) – The Prayer Pose

Mantra:

ॐ मित्राय नमः – Om Mitraaya Namaha

Meaning:

One who is friendly to all

2. हस्तउत्तनासन (Hasta Uttanasana – Raised Arms Pose)

Yoga Asana:

हस्तउत्तनासन (Raised Arms Pose)

Mantra:

ॐ रवये नम: – Om Ravayre Namah

Meaning:

The shining one, the radiant one

3. पादहस्तासन (Padahastasana) – Standing Forward Bend

Yoga Asana:

पादहस्तासन (Padahastasana) – Standing Forward Bend

Mantra:

ॐ सूर्याय नम: – Om Suryaya Namah

Meaning:

The dispeller of darkness, responsible for generating activity.

4. अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana) – Equestrian Pose

Yoga Asana:

अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana) – Equestrian Pose

Mantra:

ॐ भानवे नम: – Om Bhanave Namah

Meaning:

One who illumines, the bright one

5. दंडासन (Dandasana) – Staff Pose

Yoga Asana:

दंडासन (Dandasana) – Staff Pose

Mantra:

ॐ खगाय नम: – Om Khagaya Namah

Meaning:

One who is all-pervading, one who moves through the sky.

6. अष्टांग नमस्कार (Ashtanga Namaskara) – Eight Limbed pose or Caterpillar pose

Yoga Asana:

अष्टांग नमस्कार (Ashtanga Namaskara)

Mantra:

ॐ पूष्णे नम: – Om Pushne Namah

Meaning:

Giver of nourishment and fulfillment

7. भुजंगासन (Bhujangasana) – Cobra Pose

Yoga Asana:

भुजंगासन (Bhujangasana) – Cobra Pose

Mantra:

ॐ हिरण्यगर्भाय नम: – Om Hiranyagarbhaya Namah

Meaning:

One who has a golden colored brilliance.

8. अधोमुख शवासन (Adho Mukha Svanasana) – Downward-facing Dog Pose

Yoga Asana:

अधोमुख शवासन (Adho Mukha Svanasana)

Mantra:

ॐ मरीचये नम: – Om Marichaye Namah

Meaning:

The giver of light with infinite number of rays

9. अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana) – Equestrian Pose

Yoga Asana:

अश्व संचालनासन (Ashwa Sanchalanasana)

Mantra:

ॐ आदित्याय नम: – Om Adityaya Namah

Meaning:

The son of Aditi, the cosmic divine mother.

10. पादहस्तासन (Padahastasana) – Hand Under Foot Pose

Yoga Asana:

पादहस्तासन (Padahastasana)

Mantra:

ॐ सवित्रे नम: – Om Savitre Namah

Meaning:

One who is responsible for life

11. हस्तउत्तनासन (Hasta Uttanasana) – Raised Arms Pose

Yoga Asana:

हस्तउत्तनासन (Hasta Uttanasana)

Mantra:

ॐ अर्काय नम: – Om Arkaya Namah

Meaning:

One who is worthy of praise and glory.

12. प्रणामासन (Pranamasana) – The Prayer Pose

Yoga Asana:

प्रणामासन (Pranamasana)

Mantra:

ॐ भास्कराय नम: – Om Bhaskaraya Namah

Meaning:

Giver of wisdom and cosmic illumination

सूर्य नमस्कार मंत्र का जाप कैसे करें?

आप मौखिक रूप से या अपने मन में सूर्य नमस्कार मंत्रों का जाप कर सकते हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि उन्हें कृतज्ञता के साथ जप करें।

सांस सामान्य और आसान है। मंत्रों का जाप करते समय अपनी श्वास के प्रति सचेत रहें। यह दिमाग को नियंत्रित करने में मदद करेगा।

मंत्रों का जाप उचित स्वर के साथ करें। सही उच्चारण के लिए आप इस वीडियो को देख सकते हैं।

सूर्य नमस्कार क्रम में, एक सेट में दो चक्कर होते हैं। एक राउंड दाहिने पैर से, एक बायें से। प्रतिदिन सूर्य नमस्कार के बारह सेट का अभ्यास करना आदर्श है। लेकिन आप चुन सकते हैं कि कौन सा नंबर आपको सूट करता है। आप बारह चरणों वाले व्यायाम के प्रत्येक चरण में एक मंत्र का जाप कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप पूरे अभ्यास के लिए एक मंत्र का जाप कर सकते हैं और व्यायाम को 12 बार कर सकते हैं।

Surya Namaskar Mantra के क्या लाभ हैं?

आप विभिन्न लाभों के लिए अलग-अलग गति से आसन कर सकते हैं। साथ में मंत्रों का जाप सूर्य नमस्कार के अभ्यास को और अधिक शक्तिशाली बनाता है। यह मन और शरीर दोनों पर सूक्ष्म, फिर भी मर्मज्ञ प्रभाव डालता है। मन शरीर में किसी भी प्रकार की परेशानी के बजाय मंत्रों के जाप पर केंद्रित होता है।

मंत्र सूर्य के विभिन्न गुणों का गुणगान करते हैं। इन गुणों की सराहना करने और पहचानने में, आप उन्हें ग्रहण करने के लिए स्वयं को खोलते हैं।

शब्दों में सृजन करने की क्षमता होती है। सूर्य नमस्कार मंत्रों के स्वर और अर्थ आपके लिए सकारात्मकता और शक्ति की दुनिया बनाते हैं।

ये मंत्र मन और शरीर, श्वास और आत्मा को एक करते हैं। वे आसनों को अधिक गहन और संपूर्ण बनाते हैं।

सूर्य नमस्कार सूर्य की ऊर्जा प्राप्त करने के लिए मन और शरीर के द्वार खोलता है। मंत्र इसे स्थानांतरित करने और आत्मसात करने में मदद करते हैं।

इन 12 सूर्य नमस्कार मंत्रों को अपने दैनिक सूर्य नमस्कार अभ्यास में शामिल करें। यह आपको प्राथमिक ऊर्जा स्रोत के साथ शक्ति और एकता की भावना देगा। आपका शरीर और दिमाग तेज महसूस करेंगे और चमक से चमकेंगे – बिल्कुल सूरज की तरह!

यह भी पढें – Dhanurasana

Leave a Comment